गाज़ियाबाद एसएसपी कार्यालय पर अपनी पत्नी और बच्चों के साथ केरोसिन लेकर हंगामा
https://phmnews.com/ruckus-at-ghaziabad-ssp-office-with-his-wife-and-children-over-kerosene/
Spread the love

गाज़ियाबाद एसएसपी कार्यालय पर अपनी पत्नी और बच्चों के साथ केरोसिन लेकर हंगामा करने वाले राजेश चौधरी का इतिहास अपराधों से भरा है।राजेश चौधरी के पड़ोसी जिन्हें ये दबंग बता रहा है।उनका कहना है कि उनका रजापुर गावँ में अकेला घर है।जबकि राजेश चौधरी का बड़ा परिवार है।बेगेन्द्र ,हिमांशु आदि का कहना है कि उनकी किसी से कोई रंजिश या लड़ाई झगड़ा नही है।आये दिन राजेश के नशा करने के बाद इनके परिवार व बच्चों को गालियां देना व अवैध हथियार दिखाकर उन्हें जान की धमकी देने की शिकायत करने पर ये इनके खिलाफ झूठे और अर्गनल आरोप लगाकर इन्हें बदनाम करने चाहता है।इनका कहना है कि हमारे परिवार के सभी बच्चे पढ़े लिखे है और अपनी नौकरी आदि कर रहे है।जबकि राजेश चौधरी हत्या ,हत्या के प्रयास नशीले पदार्थों की तस्करी से लेकर अवैध उगाही और लोगों से जबरन हफ़्ता वसूली के मामलों में शामिल रहा है।ये बहुत शातिर किस्म का अपराधी है।जिससे रजापुर गावँ व आसपास के इलाकों में इसकी गुंडागर्दी से हर कोई वाक़िफ़ है।इसके द्वारा रजापुर गावं में वर्ष 2006 में अपने परिवार के लोगों के साथ एक दलित युवक की हत्या कर अपना दबदबा बनाना शुरू किया।इसके बाद इसने रजापुर गावँ के ही रहने वाले ट्रांसपोर्टर रवि पंवार को सिहानी गेट थाना क्षेत्र के राकेश मार्ग पर अपने साथियों के अंधाधुंध फायर कर जानलेवा हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया।इसके बाद इसने इलाके में लोगों से हफ्ता वसूली और रंगदारी वसूलनी शुरू कर दी।

कविनगर औधोगिक क्षेत्र की गैस एजेंसी से सालों तक गैस सप्लायरों से वसूली की और गैस रिफलिंग की चोरी कराई।इसके साथ ही इसने ओर इसके भाई बंटी ने सूदखोरी का धंधा शुरू किया जिसमें इन्होंने गरीब लोगों से मनमाने तरीके से ब्याज की मोटी रकम वसूली।इनका इलाके में इतना खौफ है कि आये दिन शराब और चरस गांजे का नशा कर ये लोगों को गालियां देना और उनके साथ मारपीट करना इनकी आदत में शुमार है। अपने आसपड़ोस में भी इनकी यही हरकतें रहने से हर कोई इनसे परेशान रहता है।राजेश चौधरी तो आदतन अपराधी है ही इसका भाई जो सूदखोरी का धंधा करता है वो ओर इसके चाचा भी आपराधिक प्रवृत्ति के है।जिनका आपराधिक इतिहास है।कुछ माह पहले ही जेल रहकर आये राजेश चौधरी की मुलाकात जेल में बंद कुख्यात अपराधी शेखर जाट से हुई थी।जहां पर शेखर ने इसे अपना संरक्षण और अपना सपोर्ट देने की बात कही।जेल से छूटकर आने के बाद इसने गावं के लोगों के सामने ये बात बोली कि अब तो शेखर और उसके परिवार के लोग भी मेरे साथ हो गए है।अब इस इलाके में कोई हमारे सामने मुँह नहीं खोल सकता।इसने लोगों से बताया कि शेखर ने कोई भी हथियार और पैसे से मदद करने का भरोसा दिया है।जिसके बदले मुझे शेखर के कुछ कामों को अंजाम देना है।शेखर का भाई बबलू लगातार हमारे संपर्क में है और हमारे यहां उसका आना जाना हो गया है।अभी पिछले दिनों राजेश के भतीजे के जन्मदिन पर बबलू व इनके सभी साथी इकट्ठा हुए थे और शराब पीकर अवैध असलहों से फायर भी किये थे।गावँ के एक छूट भईया नेता जो गावँ से चुनाव लड़ना चाहता है वो भी इनके साथ शामिल हो गया है।अब ये सभी एक सोची समझी साजिश के तहत काम कर रहे हैं और इसके द्वारा जो ड्रामा एसएसपी कार्यालय पर किया गया है उसके पीछे कुछ इसके साथी लोग है जो राजनैतिक लाभ लेने और अपनी करतूतों को छिपाने के लिए इसका इस्तेमाल कर रहे है।जिसके बदले में राजेश को पैसे देकर ये सब कराया जा रहा है।राजेश चौधरी से पीड़ित इस परिवार का कहना है कि इस पूरे मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और आये दिन उनका जो उत्पीड़न हो रहा है उसे देखते हुए राजेश चौधरी और इससे जुड़े सभी लोगों के ख़िलाफ़ सख़्त कारवाही होनी चाहिए।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.