गैंगस्टर विक्की त्यागी हत्याकांड मामले में सुनवाई:पेशी पर आए गैंगस्टर की कोर्ट रूम में हुई थी हत्या

Spread the love

मुजफ्फरनगर: गैंगस्टर रहे विक्की त्यागी हत्याकांड के मामले में कोर्ट में सुनवाई हुई। हत्याकांड के दिन विक्की त्यागी के हत्यारोपित सागर मलिक को दबोचकर उससे पिस्टल बरामद करने वाले पुलिस कांस्टेबल ने कोर्ट में आकर गवाही दी। कोर्ट को बताया कि उन्होंने विक्की त्यागी को जिला जेल से अभिरक्षा में ले जाकर कोर्ट में पेश किया था। उस पर अंधाधुंध गोलियां चलाई गई। आरोपित को दबोचकर उससे पिस्टल बरामद किया गया था।

नौ वर्ष पूर्व थाना सिविल लाइन क्षेत्र में 16 फरवरी 2015 को कोर्ट रूम में कुख्यात गैंगस्टर विक्की त्यागी की गोलियां बरसाकर हत्या कर दी गई थी। हत्याकांड का मुकदमा मृतक विक्की त्यागी की मां सुप्रभा त्यागी ने थाना सिविल लाइन में दर्ज कराया था। इससे पहले विक्की त्यागी के हत्यारोपित सागर मलिक को पुलिस दबोचकर थाना नई मंडी ले गई थी। उसकी जामा तलाशी में एक पिस्टल बरामद हुआ था। जिसे आला-ए-कत्ल बताते हुए थाना सिविल लाइन में अवैध हथियार रखने के आरोप में सागर मलिक के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराया गया था।

आरोपी के पास से पिस्टल हुई थी बरामद

सोमवार को एडीजे-सात कोर्ट में विक्की त्यागी हत्याकांड और अवैध हथियार बरामदगी के मामले में दर्ज मुकदमे की सुनवाई हुई। वादी के अधिवक्ता सुरेन्द्र शर्मा ने बताया कि उनकी ओर से कोर्ट में हत्यारोपित को दबोचकर नई मंडी थाना ले जाने वाले पुलिस कर्मी संत कुमार को कोर्ट में पेश कराया गया। उन्होंने बताया कि कां संत कुमार, गार्ड कमांडर एचसीपी प्रताप सिंह के साथ विक्की त्यागी को जिला जेल से अभिरक्षा में लेकर कोर्ट पहुंचा था।

कोर्ट ने अगली सुनवाई की तिथि 11 जुलाई

कोर्ट में गवाही देते हुए संत कुमार ने बताया कि नौ वर्ष पूर्व सिख वेशधारी वकील के कपड़ो में आए एक व्यक्ति ने विक्की त्यागी पर अंधाधुंध गोलियां चलाई थी। जिसे पकड़कर सुरक्षा की दृष्टि से एस्कोर्ट की गाड़ी में नई मंडी थाना लेकर पहुंचे थे। उससे एक पिस्टल बरामद हुआ था। उन्होंने बताया कि इस मामले में कोर्ट ने अगली सुनवाई की तिथि 11 जुलाई निर्धारित की है।


Spread the love