नगर निगम का कंपनी बाग पार्क बन गया “अयाशी का अड्डा – रविन्द्र आर्य

ग़ाज़िआबाद: नगर निगम के अंतर्गत आने वाले शहर के बीचो-बीच कंपनी बाग मे आज कल अजीबो गरीब घटना घटित हो रही है, यह गैर कानूनी गतिविधि रोज शाम के समय 6 बजे के बाद शुरू होती है, जिस अंधरे का फायदा चौकीदार से मिलकर बाहरी लोग उठा रहे है।

मामला ऐसा संज्ञान मे आ रहा है की फील्ड ऑफिसर सतीश तिवारी के अंडर मे आने वाला विजय नाम का नया गार्ड कंपनी बाग मे 6 बजे के बाद प्रतिदिन कुछ अज्ञात लड़के अनजान लड़कियों कों कंपनी बाग मे बुलाकर कर खुलेआम अयाशी करा रहे है। इसका जीता जागता सबूत 6 बजे के बाद कन्या वैदिक स्कूल की साइड कंपनी बाग के गेट खुला कर किया जा रहा है सबूत के तोर पर कोई भी नगर निगम अधिकारी शाम कों इसकी जानकारी भी कर सकता है, ओर तो ओर वहाँ रोज एक अनजान लड़को का ग्रूप आकर सूखा नशा करता है, जिसका फायदा विजय चौकीदार कों पैसे के लालच देकर असामाजिक तत्व उठा रहे है, गुप्त सूचना अनुसार यह सभी लड़के ज्यादातर कसाबान मोहल्ला के है।

 

चौकीदार की मिलीभगत से इस घर्णित कार्य कों बेखौफ कर रहे है।

इससे पहले इस तरह के कांड संज्ञान मे आते रहे है जब वह टुटा हुआ गेट बन रहा था मतलब टूटे गेट से आना जाना शुरू हुआ जो अब आवारा लड़को की आदतन बन चुका है इसकी शिकायत सामाजिक कार्यकर्त्ता रविंद्र आर्य नें अन्य चौकीदार कों कहा परन्तु उनका यह तर्क होता था की गेट टूटने से बाहरी लोग चुपके से आ जाते है लेकिन अब गेट बनने के बाद भी चौकीदार नें उनकी पुरानी आदत कों पैसे के लालच मे हौसला बढ़ा दिया है। 6 बजे के बाद वहाँ लड़कियों कों आना जाना आम बात हो गई है, कोई भी अप्रिय घटना घटनें का कंपनी बाग इन्जार कर रहा है।

जब की इस अप्रिय घटना कों वहाँ के अन्य चौकीदार ओर सभी मालियों कों भी है, ना जाने क्यों सभी चुप्पी सादे हुए है। जब कि कल शाम की घटना है की एक किशोर ओर किशोरी पानी की टंकी के निचे अशलील हरकत करते देखा गया है।

ओर कंपनी बाग के हेड माली चमन नें इन हरकतों की शिकायत पहले भी नगर निगम के अधिकारी डॉ अनुज कों भी कर चुके है।

नगर निगम एवं प्रशासन अधिकारीयों से अनुरोध है की जानकारी कर इस अप्रिय घटनाऑ कों तुरंत रोका जायें।

रविंद्र आर्य
(सामाजिक कार्यकर्त्ता एवं लेखक)