• Sun. Nov 27th, 2022

शाहजहांपुर जेल में मथुरा की प्रसिद्ध रासलीला का भव्य कार्यक्रम आयोजित कराया गया

शाहजहांपुर जेल

अनुज शर्मा की रिपोर्ट

बुलंदशहर: आज शाहजहांपुर जेल में बंदियों के स्वस्थ मनोरंजन व उन्हें भारतीय संस्कृति से अवगत कराने व जेल में निरुध्दि के कारण पनप रहे अवसाद व तनाव से मुक्त करने के उद्देश्य से वृन्दावन, मथुरा की प्रसिद्ध रासलीला का भव्य कार्यक्रम आयोजित कराया गया।

शाहजहांपुर जेल   
उक्त कार्यक्रम बृज क्षेत्र की प्रसिद्ध “श्रीहित रास लीला मण्डल, वृन्दावन, मथुरा ” के कलाकारों द्वारा प्रस्तुत किए गए। श्रीहित रास लीला मण्डल के स्वामी त्रिलोक चन्द्र के नेतृत्व में कार्यक्रम आयोजित किए गए। उक्त कार्यक्रम डॉक्टर अल्पना श्रीवास्तव व रामप्रसाद विस्मिल सेवा समिति के संयोजकत्व में आयोजित हुआ।

मुख्य कलाकारों में हास्य कलाकार मोहन सरपंच, सचिन (कृष्ण के रुप में),राकेश (राधा के रुप में),विनोद, गोपाल, अवधेश (सखी के रुप में),सुरेश (सखी के रूप में) ने विभिन्न कृष्ण लीलाओं का सजीव प्रस्तुतीकरण कर सभी बंदियों व कर्मियों का मन मोह लिया।
सर्वप्रथम राधाकृष्ण का तिलक लगाकर व मुंह मीठाकर तथा आरती के बाद कार्यक्रम प्रारंभ हुआ।
“रासबिहारी कजरारे तेरे मोटे मोटे नैना” “आज मेरे अंगना में आओ गोपाल” “मैया मोरी मैं नहीं माखन खाओ” ” श्याम बडो छलिया नांच नचावत गोपी ” नैना लड़ गये मेरे श्याम विहारी से”आदि रासलीलाओं का भव्य प्रस्तुतीकरण किया गया।
जेल में बंद बंदी अक्षय द्वारा भव्य मां काली की झांकी प्रस्तुत की गई जिसे देखकर रासलीला के कलाकार भी अचम्भित हो गए। “मां काली द्वारा रक्त बीज नामक राक्षस का वध बहुत हृदय स्पर्शी था। बंदी अक्षय द्वारा ” कान्हा मोहे ऐसौ बनइयो मोर नाचू थई थई ” राधाकृष्ण की झाँकी पर सभी दर्शक झूम उठे।पूरे कार्यक्रम के दौरान दर्शक मंत्र मुग्ध होकर कार्यक्रम देखते रहे।