सी वोटर सर्वे : 43 फीसदी ने फिर लगाई योगी के काम पर मुहर, कहा अच्छा
BJP releases list of names of 107 candidates
Spread the love

एबीपी न्यूज चैनल पर सी-वोटर द्वारा किए गए ताजा चुनावी सर्वे के मुताबिक, 77 फीसदी लोगों का मानना ​​है कि कन्नौज कैश स्कैंडल से जरूर कोई राजनीतिक जुड़ाव है. अभी यह साफ नहीं है कि किस पार्टी को फायदा होगा और किसे नुकसान।

जैसे-जैसे यूपी में चुनाव का समय नजदीक आता जा रहा है लोगों की उत्सुकता बढ़ती जा रही है. यूपी की योगी सरकार और विपक्ष के लिए हर शख्स अपनी-अपनी राय बना रहा है. कई लोगों का कहना है कि यूपी में योगी सरकार आने के बाद कानून-व्यवस्था पटरी पर आ गई है और माफिया जेलों में बंद हैं, वहीं कई लोगों का कहना है कि योगी सरकार में कोई काम नहीं हुआ, बल्कि अखिलेश की सरकार में हुआ. किए गए कार्यों को नया बताकर योगी सरकार श्रेय ले रही है। इसके चलते फिलहाल लोगों की राय बंटी हुई है।

एबीपी न्यूज चैनल पर सी-वोटर द्वारा किए गए ताजा चुनावी सर्वे के मुताबिक, 77 फीसदी लोगों का मानना ​​है कि कन्नौज कैश स्कैंडल से जरूर कोई राजनीतिक जुड़ाव है. अभी यह साफ नहीं है कि किस पार्टी को फायदा होगा और किसे नुकसान।

वहीं 43 फीसदी लोगों ने सीएम योगी के काम को अच्छा बताया है. वहीं बुरा कहने वालों की संख्या 37 फीसदी है. वहीं 20 फीसदी लोग ऐसे भी हैं जो कह रहे हैं कि योगी सरकार का काम औसत रहा है. ये आंकड़े पिछले दो हफ्ते से लगभग एक जैसे ही हैं। यानी इसके आखिरी हफ्ते में भी लोगों ने सरकार के बारे में यही राय जाहिर की थी. यानी योगी की लोकप्रियता थम गई है.

इस बीच, विभिन्न दलों के कामकाज को लेकर लोगों की राय काफी विभाजित है। कुछ लोगों का कहना है कि योगी सरकार में कुछ खास क्षेत्रों में ही काम हो रहा है, बाकी की उपेक्षा की जा रही है. वहीं दूसरी ओर बीजेपी को अच्छा कहने वाले लोगों का कहना है कि विपक्षी दल यूपी की योगी सरकार को अपनी नाकामी छिपाने के लिए एक खास वर्ग की बता रहे हैं.

कई अन्य लोगों ने आरोप लगाया कि कानपुर मेट्रो का उद्घाटन पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पहले ही कर चुके हैं। लेकिन और भी कई लोग कहते हैं कि यह झूठ है, इसे सपा सरकार में रोक दिया गया, योगी के सीएम बनने के बाद अनशन पर काम किया गया. इसी तरह वाराणसी में काशी विश्वनाथ कॉरिडोर को लेकर भी लोगों की अलग-अलग राय है। कुछ लोगों का कहना है कि इससे काशी की शोभा बढ़ी है, लेकिन काशी के तमाम मुहल्ले और घाट अभी भी विकास से अछूते हैं, उन पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.