• Sun. Nov 27th, 2022

कहां खर्च होगा पीएम केयर्स फंड का पैसा, पीएम मोदी ने कही ये बात…

Byadmin

Dec 13, 2021
कहां खर्च होगा पीएम केयर्स फंड का पैसा, पीएम मोदी ने कही ये बात...

पिछले कई दिनों से विपक्ष और आलोचकों पर हमले का जवाब देते हुए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने बताया है कि पीएम केयर फंड का पैसा कहां खर्च होगा. पैसे के आवंटन में प्रवासी मजदूरों को जिस तरह प्रमुखता दी गई है, वह विपक्ष के गले में हड्डी फंसने जैसा है.

यह बीती बात है। जैसे ही यह घोषणा की गई कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5वीं बार राष्ट्र को संबोधित करेंगे और कई महत्वपूर्ण घोषणाएं करेंगे, पूरे देश में खलबली मच गई। भूख, प्यास और बेरोजगारी से मजबूर अपने गांव लौट रहे प्रवासी मजदूरों से लेकर गिरती अर्थव्यवस्था तक देश की जनता के सामने कई अहम सवाल थे. देश यह जानने की कोशिश कर रहा था कि पीएम इस मुश्किल घड़ी में क्या-क्या नई घोषणाएं करते हैं और साथ ही वो लॉकडाउन में कोई खास छूट देंगे या नहीं. एक तरफ देश और देश की जनता के सामने तमाम तरह के सवाल थे तो दूसरी तरफ विपक्ष मुख्य रूप से कांग्रेस का था. कांग्रेस ने पीएम केयर फंड के तहत मिलने वाले फंड को लेकर फिर सरकार पर सवाल खड़े किए. पीएम केयर में मिलने वाला पैसा कहां जा रहा है, इसका जवाब पीएम मोदी ने दिया है. प्रधानमंत्री मोदी ने पीएम केयर फंड से 3100 करोड़ रुपये खर्च करने का ऐलान किया है.

पीएमओ से यह जानकारी मिली है. बताया जा रहा है कि इन 3100 करोड़ रुपये में से 2000 करोड़ रुपये वेंटिलेटर खरीदने में खर्च होंगे जबकि 1000 करोड़ रुपये प्रवासी मजदूरों के लिए होंगे. वहीं अगर 100 करोड़ की बात बाकी है तो यह पैसा कोरोना वायरस की वैक्सीन की रिसर्च पर खर्च किया जाएगा. इस मामले में दिलचस्प बात यह है कि सरकार ने जिन वेंटिलेटर्स की बात की है, उनका निर्माण भारत में होगा और उन्हें मेक इन इंडिया के तहत खरीदा जाएगा।

ध्यान रहे कि जब से कोरोना वायरस से निपटने के लिए पीएम केयर फंड बनाया गया है तब से कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी सरकार और पीएम मोदी पर हमलावर रहे हैं. अतीत में ऐसे कई मौके आए जब तरह-तरह की बातें की गईं और आलोचकों का एक वर्ग ऐसा भी था जो कहता था कि ऐसी स्थिति में भी प्रधानमंत्री अपने फायदे और प्रचार की तलाश में हैं.

धनराशि में से 3100 करोड़ रुपये आवंटित करते समय प्रवासी मजदूरों को प्रमुखता दी गई है, तो बता दें कि इस कठिन दौर में भूख और बेरोजगारी के नाम पर लाखों मजदूर पैदल ही अपने घर जा चुके हैं, जिससे सरकार का बहुत अपमान हुआ है। .

कांग्रेस, टीएमसी, समाजवादी पार्टी और रालोद जैसी पार्टियों ने भी मजदूरों के इस तरह के पलायन को बहुत गंभीरता से लिया और इसकी आड़ लेते हुए पीएम मोदी की कड़ी आलोचना की थी और कहा था कि कार्यकर्ताओं का यह तरीका विकास और भारत की प्रगति के लिए जाएगा। विश्व गुरु बनने जैसी बातों पर तमाचा है। हाल ही में राहुल गांधी ने पूछा था कि जब पीएसयू के जरिए पीएम केयर फंड में इतना पैसा आता है तो सरकार उसका ऑडिट भी कराए और साथ ही बताए कि वह पैसा कहां खर्च हुआ.

हालांकि, जब केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सरकार की ओर से 20 लाख करोड़ का पैकेज आवंटित कर रही थीं, तो पूरा देश उन पर निगाह रख रहा था और जानना चाहता था कि सरकार इन प्रवासी मजदूरों को क्या सुविधाएं देती है।

1000 करोड़ के इस आवंटन के बाद आने वाला समय तय करेगा कि प्रवासी मजदूरों का पलायन कितना रुकता है। लेकिन जो मौजूद है वह दिलचस्प भी है क्योंकि इस पैसे को आवंटित करके पीएम मोदी ने तेज आवाज पर नकेल कसने का काम किया है. यह देखना दिलचस्प होगा कि विपक्ष क्या कहता है या कांग्रेस इससे क्या तोड़ पाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *